ALL International NATIONAL State ADMINISTRATION Photo Gallery Economy Education/Science & Technology Environment & Agriculture Entertainment Sports
सोशल मीडिया पर भी चीन के खिलाफ विरोध तेज
June 19, 2020 • DESK • NATIONAL

भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है। शाम 5 बजे होने वाली इस बैठक में अलग-अलग पार्टियों के अध्यक्ष शिरकत करेंगे। वहीं देश में कोरोना के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी चीन के खिलाफ विरोध तेज होता जा रहा है और लोग चीनी सामान का बहिष्कार करने की अपील कर रहे हैं

कोरोनावायरस संक्रमण से भारत में स्वस्थ होने वालों का आंकड़ा 2 लाख के पार चला गया है। भारत में कोरोना से 12 हजार 500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी थी जबकि संक्रमितों की संख्या 3 लाख 81 हजार से ज्यादा हो चुकी थी। पूरी दुनिया में इस महामारी से 4 लाख 50 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई।

-दुनियाभर में 4,53,874 लोगों की मौत

-पूरी दुनिया में 85,29,345 लोग संक्रमित

-विश्वभर में 44,95,273 मरीज स्वस्थ

-भारत में 3,81,091 मरीज संक्रमित

-देश में अब तक 12,604 लोगों की मौत

-भारत में 2,05,182 मरीज स्वस्थ हुए

-पाकिस्तान में पिछले 24 घंटे में 118 और लोगों की कोविड-19 से जान जाने के बाद देश में मृतक संख्या 3000 के पार पहुंच गई और संक्रमण के मामले भी 1,60,000 के पार चले गए हैं। -बांग्लादेश में 3,803 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या 100,000 के पार चली गई। 38 लोगों की मौत के बाद कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या 1,343 हो गई। -दिल्ली में कोविड-19 के 2877 ताजा मामले सामने आए जिसके बाद संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 49,000 के पार पहुंची। अब तक कोरोनावायरस से 1,969 लोगों की मौत हो चुकी है। -महाराष्ट्र में कोरोना के 3752 नए मामले आने से संक्रमित लोगों की संख्या 1,20,504 हो गई। संक्रमण से 100 और लोगों की मौत हुई है जिसमें अकेले मुंबई में 67 लोगों की मौत हुई है। -मुंबई में कोरोना संक्रमण के 1,298 नए मामले आए और 67 मरीजों की मौत हो गई। कोरोना संक्रमण के कुल मामले 62,799 पर पहुंचे, वहीं मृतकों की संख्या बढ़कर 3,309 तक पहुंच गई। -गुजरात में कोरोनावायरस से 510 और मरीज संक्रमित। कोरोना के कुल मामले बढ़कर 25,660 हो गए जबकि 31 और मौतों के बाद मृतकों का आंकड़ा 1592 हो गया है।

टेक्सटाइल क्षेत्र में रोजगार की व्यापक संभावनाओं को देखते हुए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ उत्‍तर प्रदेश को गारमेंट का हब बनाने की द‍िशा में प्रयास कर रहे हैं। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के समक्ष राज्य में वस्त्र उद्योग क्षेत्र में रोजगार सृजन हेतु उ.प्र. को गार्मेंटिंग हब बनाने जाने के संबंध में रोडमैप का प्रस्तुतीकरण किया गया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में टेक्सटाइल क्षेत्र में रोजगार की व्यापक संभावनाएं मौजूद हैं। 20,000 करोड़ से यूपी को गारमेंट हब बनाने की तैयारी में CM योगी

भारत ने बृहस्पतिवार को चीन से कहा कि वह अपनी गतिविधियों को वास्तविक नियंत्रण रेखा के उसके अपने क्षेत्र तक ही सीमित रखे और उसे इसमें बदलाव के लिए कोई एकपक्षीय कार्रवाई नहीं करनी चाहिए। गलवान घाटी की हिंसक झड़प का उल्लेख करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि भारत देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। 'LAC के अपने क्षेत्र में गतिविधियां करें चीन, RIC की बैठक में हिस्सा लेंगे एस जयशंकर'  

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले में पुलिस लगातार उनके करीबियों के बयान दर्ज कर रही है। गुरुवार को पुलिस ने तीन और करीबियों के बयान दर्ज किए हैं। इसमें उनकी दोस्त, पी.आर और मैनेजर शामिल हैं।

चेन्नई सुपरकिंगस के निलंबित डॉक्टर मधु थोटापिल्लिल ने गुरुवार को अपनी विवादास्पद सोशल मीडिया पोस्ट पर बिना शर्त माफी मांगी जिसमें उन्होंने पूर्वी लद्दाख में चीन के सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सैनिको की मौत के बाद सरकार का मजाक उड़ाया था।

चीन के साथ सीमा पर बढ़ते तनाव के बीच भारतीय वायु सेना ने रूस से सुखोई 30 एमकेआई और मिग-29 लड़ाकू विमानों को खरीदने का फैसला किया है।

कुरुक्षेत्र में 21 जून को सूर्य ग्रहण मेले का आयोजन नहीं होगा,जिला प्रशासन ने इस बारे में आदेश जारी करते हुए वहां 3 तीन का कर्फ्यू लगा दिया है।

सोने और चांदी की कीमतों में गुरुवार को भी तेजी जारी रही है। जानिए 24 कैरेट और 22 कैरेट सोना का भाव और साथ में चांदी का भाव भी।

मुकेश अंबानी की कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश का सिलसिला लगातार जारी है। अब सऊदी अरब की वेल्थ फंड पीआईएफ ने 11,367 करोड़ रुपए के निवेश की घोषणा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को प्रवासी श्रमिकों को आय समर्थन देने के लिए 50,000 करोड़ रुपए के ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ की शुरुआत करेंगे। कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के बीच बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक अपने गांवों को लौटे हैं जहां उनके समक्ष रोजगार की समस्या खड़ी हुई है. यह योजना मुख्य रूप से उन छह राज्यों पर केंद्रित होगी, जहां सबसे अधिक प्रवासी श्रमिक अपने घरों को लौटे हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस अभियान की जानकारी देते हुए कहा कि इस बड़ी ग्रामीण रोजगार योजना से घर लौटे श्रमिकों को सशक्त किया जा सकेगा और उन्हें 125 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की मौजूदगी में वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए 20 जून को ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान  का  शुभारंभ करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘मैं बिहार सरकार के साथ 20 जून को इस अभियान का शुभारंभ करूंगा। इसके तहत मिशन के रूप में छह राज्यों में 50,000 करोड़ रुपए का कार्य किया जाएगा।’ यह अभियान बिहार के खगड़िया जिले के बेलदौर प्रखंड के तेलिहर गांव से शुरू किया जाएगा। बिहार में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। सीतारमण ने कहा, ‘इस अभियान के लिए बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और ओड़िशा के 116 जिलों में प्रत्एक से 25,000 श्रमिकों को इस अभियान के लिए चुना गया है। इनमें 27 पिछड़े जिले भी शामिल हैं। इन जिलों के तहत करीब 66 प्रतिशत प्रवासी श्रमिक इसमें शामिल होंगे। छह राज्यों के 116 जिलों के गांव इस कार्यक्रम से साझा सेवा केंद्रों (सीएससी) और कृषि विज्ञान केंद्रों के जरिए जुड़ेंगे। यह अभियान 125 दिनों का है, जिसमें प्रवासी मजदूरों को रोजगार मुहैया कराने के लिए 25 अलग तरह के कार्यों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। साथ ही इसके जरिए देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी ढांचा खड़ा किया जाएगा। इसके लिए 50,000 करोड़ रुपए के संसाधन लगाए जाएंगे। सीतारमण ने कहा कि यह 50,000 करोड़ रुपए बजट का हिस्सा है। उन्होंने कहा, ‘इसमें महत्वपूर्ण बात यह है कि हम सभी जिलों में घर लौटे श्रमिकों से सीधे संपर्क कर रहे हैं। हम धनराशि को पहले खर्च के लिए ला रहे हैं। इसमें अपने जिलों में पहुंचे सभी प्रवासी श्रमिक संपत्ति सृजन का हिस्सा होंगे।’

उन्होंने कहा कि इस योजना का समन्वय 12 अलग-अलग मंत्रालय करेंगे जिनमें ग्रामीण विकास, पंचायती राज, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, खनन, पेयजल एवं स्वच्छता, पर्यावरण, रेलवे, पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा, सीमा सड़क, दूरसंचार और कृषि मंत्रालय शामिल हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार की 25 योजनाओं को एक साथ लाया जाएगा और ए श्रमिक ग्राम पंचायत भवन और आंगनवाड़ी केंद्र, राष्ट्रीय राजमार्ग, रेलवे और जल संरक्षण परियोजनाओं में काम करेंगे। सीतारमण ने कहा, ‘हम 116 जिलों में 25 अलग-अलग कार्यों के लिए आवंटित धन को पहले ही उपलब्ध कराना चाहते हैं और यह सुनिश्चित करेंगे कि इन जिलों के सभी प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मिल सके।’

यह पूछे जाने पर कि पश्चिम बंगाल को इस अभियान में क्यों नहीं शामिल किया गया, ग्रामीण विकास मंत्री एनएन सिन्हा ने कहा कि जब यह कार्यक्रम तैयार किया जा रहा था उस समय राज्य ने अपने घर लौटने वाले श्रमिकों का आंकड़ा उपलब्ध नहीं कराया था। उन्होंने कहा, ‘अन्य जिलों के लिए कोई रोक नहीं है (कम से कम 25,000 प्रवासी श्रमिक) इस अभियान में शामिल हो सकते हैं है। यदि हमें आंकड़ा मिलेगा, तो भविष्य में निश्चित रूप से उन्हें इसमें शामिल किया जाएगा।’इस सवाल पर कि क्या इस कार्यक्रम को 125 दिन से आगे बढ़ाया जा सकता है, सीतारमण ने कहा कि हम उन्हें फिलहाल चार महीने के लिए स्पष्ट, ठोस रूपरेखा दे रहे हैं। आगे चलकर देखते हैं कि कितने श्रमिक रुके रहते हैं। सरकार एक वृहद रूपरेखा लेकर आई है जिसके जरिए उन्हें तत्काल आजीविका उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि बिहार के 32 और उत्तर प्रदेश के 31 जिले इस अभियान का हिस्सा हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की शीर्ष वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने गुरुवार को कहा कि संगठन इस साल के अंत से पहले कोविड-19 का टीका उपलब्ध होने को लेकर आशावादी है।

कोरोना वायरस के उपचार की दवा को लेकर चल रहे चिकित्सकीय परीक्षणों के मद्देनजर जिनेवा से आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान स्वामीनाथन ने कहा कि यह साबित हो गया है कि मलेरिया रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती हुए लोगों की मौत रोकने में कारगर नहीं है। भविष्य में इस घातक वायरस से बचाने वाले टीके के संदर्भ में उन्होंने कहा कि लगभग 10 उम्मीदवार मानव परीक्षण के चरण में हैं और इनमें से कम से कम 3 उम्मीदवार उस नए चरण में प्रवेश कर रहे हैं, जहां एक टीके का प्रभाव साबित होता है। कारगर टीके को लेकर डब्ल्यूएचओ के प्रयास का उल्लेख करते हुए स्वामीनाथन ने कहा कि मुझे उम्मीद है। मैं आशान्वित हूं लेकिन टीका विकसित करना एक बेहद जटील प्रक्रिया है और इसमें बहुत अधिक अनिश्चितता भी है। अच्छी बात यह है कि हमारे पास कई अलग-अलग उम्मीदवार और प्लेटफॉर्म हैं। उन्होंने कहा कि अगर हम भाग्यशाली हैं तो इस साल के अंत तक एक अथवा दो कामयाब उम्मीदवार होंगे।

बहरहाल, डॉ सौम्या स्वामीनाथन का यह भी कहना है कि लोगों को कोविड-19 के संक्रमण की चपेट में आने से रोकने में मलेरिया रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की भूमिका हो सकती है। इस संबंध में क्लीनिकल परीक्षण चल रहे हैं। उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा किए जा रहे अन्य परीक्षणों का संदर्भ देते हुए कहा कि हम अब तक यह नहीं जानते। इसलिए बड़े पैमाने पर परीक्षण पूरे होने और आंकड़े हासिल करने की जरूरत है।

Enhancing counter terrorism action by UNSC among main priorities:  MEA on India's election to UN body

China, India to deal with 'serious matter' caused by Galwan conflict in a 'just manner':Official

Saudi Arabia's PIF buys 2.32% stake in Jio for Rs 11,367 crore

Why Indian soldiers were sent 'unarmed to martyrdom': Rahul

No question of hiding COVID-19 death figures, says BMC

China's claim over Galwan Valley 'exaggerated, untenable': MEA

No Army personnel missing since Galwan Valley violence: Army

Fitch Ratings revises India's outlook to negative from stable

Chinese President Xi asks PLA to improve strategic management of armed forces

BJP releases candidates list for Legislative Council elections in Karnataka

Nepal's President signs bill to redraw map incorporating 3 Indian areas

Petrol price hiked by 53 paise/litre, diesel by 64 paise; 12th straight day of increase

Observe this Yoga Day at home: PM

India asks China to confine its activities to its side of LAC

Sisodia takes over charge of health, PWD as Satyendar Jain recuperates in hospital