ALL International NATIONAL State ADMINISTRATION Photo Gallery Economy Education/Science & Technology Environment & Agriculture Entertainment Sports
शहर के काशीपुर में खुलेगा महिला डाकघर
November 7, 2019 • पलटन साहनी संवाददाता समस्तीपुर की रिपोर्ट • Economy


समस्तीपुर के काशीपुर में महिला डाकघर खुलेगा

     सरकार ने महिला सशक्तीकरण की दिशा में सभी डाक मंडलों में एक-एक महिला डाकघर खोलने का निर्णय लिया है। इसके तहत राज्य के 24 डाक मंडलों में एक-एक महिला डाकघर खोले जाएंगे। पटना और गया में इसकी शुरुआत हो गई है। उक्त बातें पूर्वी क्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल अनिल कुमार ने बुधवार को प्रेसवार्ता के दौरान कहीं। कहा कि नारी शक्ति आगे नहीं बढ़ेगी, तो देश की स्थायी शक्ति नहीं बढ़ेगी। अगले महीने समस्तीपुर में भी महिला डाकघर खोल दिया जाएगा। यहां पोस्ट मास्टर से लेकर पोस्टमैन तक महिलाएं रहेंगी। यहां केवल महिला कर्मचारी ही कार्यरत होंगी। यहां सभी उत्पाद मिलेंगे। श्री कुमार ने कहा कि डाक सेवा आज जनसेवा केंद्र बन गया है। इसमें आइपीबी, पीएलआइ, डीबीटी, आरपीएलआइ, आधार केंद्र, पासपोर्ट सेवा केंद्र, एलइडी बल्ब, सुकन्या समृद्धि योजना, ऋषिकेश व गंगोत्री का जल मुख्य है। डाक विभाग सेवाओं का मॉल बन चुका है। मौके पर डाक अधीक्षक राज बल्लभ पासवान, पवन कुमार वर्मा, राजन कुमार, डाकपाल अनिल कुमार आदि उपस्थित रहे।

आरबीआइ ने डाकघर को दिया पूर्ण बैंकिग का लाइसेंस

पोस्टमास्टर जनरल ने बताया कि डाकघर पिछले साल से ही बैंकिग क्षेत्र में काम करने की शुरुआत की थी। कम समय में बेहतर कार्य करने की वजह आरबीआइ ने डाकघर के बैंक को भी संपूर्ण बैंकिग का लाइसेंस दे दिया है। डाकघर भी ग्राहकों को सभी आधुनिक सुविधा दे रही है। साथ ही इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक में अब बायोमीट्रिक से अंगूठा लगाते ही राशि की निकासी हो जाएगी। इससे हैकिग की भी समस्या दूर होगी। अनुमान के अनुसार देश में 1600 प्रतिशत हैकिग बढ़ गया है। बिहार में आइपीबी में 16 लाख खाता खोले गए। जिसमें 88 करोड़ रुपये जमा किए गए और 700 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन हुआ। समस्तीपुर में अब तक कुल 62 हजार बैंक खाता खोले गए हैं। आइपीपीबी खाते से निकल सकेंगी राशि

आइपीपीबी खाते से केवल बायोमीट्रिक से ही रुपये निकल सकता है। इसमें दूसरे बैंक के खाते से भी रुपये निकाले जा सकते हैं। इसके अंतर्गत रुपये का हस्तांतरण कहीं भी कर सकते है। इस खाते में विभिन्न मदों में सब्सिडी के तहत दी जाने वाली राशि भी प्राप्त होती है। प्रधानमंत्री की देश की बेटियों के लिए सुकन्या समृद्धि योजना में भी बिहार ने बहुत अच्छा किया है। बिहार में सिर्फ 1.86 लाख बेटियों के खाते खुल चुके हैं। साथ ही सभी कर्मियों को योजना के तहत खाता खुलवाने का संकल्प दिलाया गया। पीएलआइ व आरपीएलआइ को मिला 100 करोड़ का लक्ष्य

डाक जीवन बीमा (पीएलआइ) व ग्रामीण डाक जीवन बीमा (आरपीएलआइ) के क्षेत्र में समस्तीपुर के कार्यो की सराहना की। बताया कि पिछले वर्ष पूरे बिहार में समस्तीपुर का लक्ष्य प्राप्ति में दूसरा स्थान था। इस बार समस्तीपुर को 100 करोड़ का लक्ष्य दिया गया है। साथ ही प्रथम स्थान पर आने के लिए प्रोत्साहित किया गया है।