ALL International NATIONAL State ADMINISTRATION Photo Gallery Economy Education/Science & Technology Environment & Agriculture Entertainment Sports
मणिपुर में बीजेपी की सरकार गिरना तय
June 18, 2020 • DESK • NATIONAL

https://pagpagmedia.page/article/katha-likhoon-ya-vyatha-likhoon-/d622DQ.html

भारत और चीन के बीच सीमा पर हालत तनावपूर्ण बने हुए है। इस बीच चीन के खिलाफ देश में विरोध तेज हो चला है। वहीं भारत को 8वीं बार सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य चुना गया है। देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं …

लद्दाख की गलवान घाटी में चीन के साथ हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 जवानों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन को कड़ा संदेश दिया है। पीएम मोदी ने कहा है कि मैं देश को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। गलवान घाटी में खूनी संघर्ष के बाद चीन को कड़ा संदेश देने के लिए सरकार ने कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। केंद्रीय दूरसंचार मंत्रालय ने चीनी की कंपनियों को भारतीय अर्थव्यवस्था से दूर रखने की दिशा में कदम आगे बढ़ा दिया है। BSNL की 4G अपग्रेडेशन प्रक्रिया से चीनी कंपनियां होंगी बाहर, बन रहे टेंडर के नए नियम. सेना ने बुधवार को कहा कि गलवानी घाटी हिंसा में शहादत पाने वाले सैनिकों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। सेना ने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए हम हमेशा तत्पर है।

गलवान में भीषण टकराव के बाद चीन के साथ लगने वाली करीब 3500 किलोमीटर लंबी सीमा पर सेना और वायु सेना के अग्रिम ठिकानों पर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।  तीनों सेनाएं अलर्ट पर, हिंद महासागर में अपनी संख्या बढ़ा रही नौसना. पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में ऊंचाई वाले इलाके में एक संकीर्ण पहाड़ी रास्ते पर चीनी सेना द्वारा निगरानी चौकी स्थापित किए जाने की वजह से भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई  इसमें 20 भारतीय सैन्यकर्मी शहीद हो गए

भारत एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) का अस्थाई सदस्य बन गया है। भारतीय समायनुसार बीती रात हुए वोटिंग में भारत में 192 में से 184 वोट मिलेगे। 193 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अपने 75वें सत्र के लिए अध्यक्ष, सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्यों और आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के सदस्यों के लिए चुनाव कराया था। भारत पहली बार 1950 में अस्थायी सदस्य के रूप में चुना गया था। बता दें, UNSC में कुल 15 देश हैं। इनमें से 5 यानी अमेरिका, रूस, फ्रांस, ब्रिटेन और चीन स्थायी सदस्य हैं। वहीं, हर साल UNSC 2 साल के कार्यकाल के लिए 5 अस्थायी सदस्यों (कुल 10 में से) का चुनाव करती है। अमेरिका ने भारत के अस्थायी सदस्य चुने जाने पर खुशी जाहिर की है और उम्मीद जताई है कि दोनों देश मिलकर काम करेंगे। भारत कब-कब अस्थाई सदस्य चुना गया: भारत आठवीं बार सुरक्षा परिषद का अस्थाई सदस्य चुना गया। इसके पहले 1950-51, 1967-68, 1972-73, 1977-78, 1984-85, 1991-92 और 2011-12 में भारत यह जिम्मेदारी निभा चुका है।

खतरनाक कोरोनावायरस के बुधवार देर रात तक दुनियाभर में 4 लाख 49 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी थी जबकि संक्रमितों का आंकड़ा 83 लाख 53 हजार के पार हो गया। भारत में 3 लाख 67 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं, जबकि मौत का आंकड़ा 12 हजार के पार पहुंच चुका है। कोरोना से जुड़ा हर अपडेट...

-दुनियाभर में 4,49,114 लोगों की मौत

-पूरी दुनिया में 83,53,611 लोग संक्रमित

-विश्वभर में 43,72,579 मरीज स्वस्थ

-भारत में 3,67,264 मरीज संक्रमित

-देश में अब तक 12,262 लोगों की मौत

-भारत में 1,94,438 मरीज स्वस्थ हुए

-बांग्लादेश में बुधवार को कोरोनावायरस के एक दिन में सर्वाधिक 4,008 नए मामले सामने आने के बाद मामलों की संख्या 98,489 हो गई है। 43 नई मौतों के बाद कुल मृतक संख्या 1,305 पर पहुंच गई। -मुंबई में बुधवार को कोरोना के 1,359 नए केस सामने आए जिसके बाद संक्रमितों की संख्या 61,501 पहुंच गई। वहीं पिछले 24 घंटों में 77 मरीजों की मौत के बाद महामारी के कारण मरने वालों की संख्या 3,242 पहुंच गई।

उत्तर भारत के कई हिस्सों में बुधवार को तापमान सामान्य सीमा से अधिक रहा, जिससे राजस्थान के कुछ इलाकों में गर्मी बढ़ गई और लू चली, जबकि मौसम विभाग ने घोषणा की है कि मानसून राष्ट्रीय राजधानी में एक हफ्ते से भी कम समय में पहुंच जाएगा।

मणिपुर में बीजेपी की सरकार गिरना तय हो गया है। दरअसल, बीजेपी के 3 विधायकों ने इस्तीफा देकर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। विधायकों एस सुभाषचंद्र सिंह, टीटी हाओकिप और सैमुअल जेंदई ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है और कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। NPP ने भी लिया समर्थन वापस. मणिपुर में बीजेपी की गठबंधन सरकार को बड़ा झटका लगा है। यहां आज 3 विधायकों ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है। इसके अलावा राज्‍य के उप मुख्‍यमंत्री समेत 4 मंत्रियों ने भी पार्टी छोड़ दी है। इसके चलते अब यहां बीजेपी सरकार संकट में आ गई है। मणिपुर के उप मुख्‍यमंत्री वाई जयकुमार सिंह ने आज अपने पद से त्‍याग पत्र दे दिया है। उनके साथ 3 अन्‍य मंत्रियों ने भी पद से इस्‍तीफा दिया है। गठबंधन सरकार में एक टीएमसी विधायक और एक निर्दलीय विधायक ने समर्थन वापस ले लिया है। जो विधायक भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए हैं, उनके नाम एस सुभाषचंद्र सिंह, टीटी हाओकिप और सैमुअल जेंदई हैं। डिप्‍टी सीएम वाई जयकुमार सिंह के अलावा राज्‍य में मंत्री एन कायिसी, मंत्री एल जयंत कुमार सिंह और लेतपाओ हाओकिप ने भी आज पद छोड़ दिया है।

मणिपुर में एन बीरेन सिंह वर्तमान सीएम हैं। जिन विधायकों ने आज भाजपा छोड़कर कांग्रेस ज्‍वाइन की है, वे संभावित रूप से कांग्रेस को समर्थन दे सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो राज्‍य में सरकार का वजूद खतरे में आ जाएगा और राष्‍ट्रपति शासन की संभावना भी बन सकती है।

मणिपुर में मुख्यमंत्री बीरेन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा गठबंधन सरकार बुधवार रात गहरे राजनीतिक संकट में फंस गई जब भाजपा के तीन विधायकों ने इस्तीफा दे दिया और छह अन्य विधायकों ने सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया। ताजा घटनाक्रम के बाद 60 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा नेतृत्व वाली सरकार अल्पमत में आ गई है। विधानसभा की प्रभावी सदस्य संख्या 59 है क्योंकि एंद्रो सीट से कांग्रेस टिकट पर निर्वाचित श्याम कुमार सिंह को भाजपा में जाने की वजह से अयोग्य ठहरा दिया गया था।

यूपी सरकार ने राज्य के सरकारी एवं निजी अस्पतालों के ओपीडी को दोबारा चालू करने का निर्देश दिया है। उन जिलों की विशेष निगरानी की जा रही है जहां कोविड-19 के केस ज्यादा मिले हैं। कोरोना से जंग : यूपी में एक दिन में 16 हजार से ज्यादा टेस्ट, OPD दोबारा चालू

योग का मन और शरीर के ठीक वैसा ही संबंध है जैसा मानव का प्रकृति से है। आइए जानते हैं योग की शुरुआत कैसे हुई थी और किसे कहा जाता है 'फादर ऑफ योगा'. हर साल 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। इस साल कोरोना महामारी की वजह से छठा अंतराष्ट्रीय योग दिवस डिजिटली मनाया जाएगा। भारत में इसे व्यापक स्तर पर मनाया जाता है। यही वजह है कि भारत से उत्पन्न योग अब दुनियाभर में प्रसिद्ध है। कई योग गुरुओं ने यह साबित किया है कि नियमित रूप से योग का अभ्यास किया जाए तो किसी भी बीमारी को ठीक किया जा सकता है। वहीं भारत ने कई योग गुरु हैं, जिन्होंने दुनियाभर में यात्रा कर लाखों लोगों को योग सिखाया है। बता दें कि पश्चिमी देशों के कई लोग योग सीखने और योग सिखाने को अपना पेशा बनाने के लिए भारत के ऋषिकेश आते हैं।

योगिक संस्कृति में भगवान शिव को भगवान के रूप में नहीं बल्कि आदियोगी (प्रथम योगी) के रूप में माना जाता है यानी भगवान शिव योग के जनक थे। यह लिखा है कि लगभग 15000 साल पहले शिव पूर्ण आत्मज्ञान के चरण तक पहुंच गए थे।(यानी अपने दिमाग को 100 प्रतिशत इस्तेमाल करना)। भगवान शिव हिमालय चले गए और इसकी वजह से उत्साह से नाचने लगे। उन्होंने लगातार नृत्य किया जिससे कि वह बहुत तेज या स्थिर हो गए। लोग इसे देखकर चकित थे और इस खुशी का रहस्य सीखना चाहते थे।

लोग इकट्ठा होने लगे, लेकिन शिव ने उनकी परवाह नहीं की। कई लोगों ने इंतजार किया और सात लोगों को छोड़कर बाद में सभी चले गए। वे बाद में सप्तऋषि बने थे(सात ऋषि)। इन सप्तऋषियों ने शिव से उन्हें उनके ज्ञान के बारे में सिखाने के लिए कहा और किस तरह एक आनंददायक राज्य को प्राप्त कर सकते हैं इस बारे में जानने की इच्छा जाहिर की। लेकिन शिव ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। वह बाहरी दुनिया से पूरी तरह अनजान थे।

योग का इतिहास लगभर 5 हजार साल पुराना है, लेकिन भारत में इसकी शुरुआत का श्रेय महर्षि पतंजलि को दिया जाता है। 5 हजार साल पहले ऋषियों ने मनुष्य के शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक विकास के योग को महत्वपूर्ण बताया था। ऐसा मना जाता था कि ईश्वर और मनुष्य के बीच संबंध बनाने के लिए योग एक मुख्य साधन है। वहीं योग करीब 2700 बी.सी साल पहले सिंधु घाटी सभ्यता की अमर देन है। सिंधु घाटी सभ्यता में योग साधना और उसकी मौजूदगी को दर्शाया गया है, जिससे साफ पता चलता है कि प्रचीन भारत में भी योग की मौजूदगी थी। उनकी सभ्यता में लैंगिक चिन्ह और देवी माता के मूर्ति की बनावट योग तंत्र को दर्शाता है। इसके अलावा वैदिक, उपनिषद, बौद्ध, जैन के रीति-रिवाजों और महाभारत-रामायण काव्यों में भी योग के बारे में बताया गया है। ऐसा कहा जाता है कि सूर्य नमस्कार भी योग साधना से प्रभावित है।

मानसून का आगाज़ हो चुका है। जल्‍द ही पूरे देश में बारिश का जोरदार सिलसिला शुरू हो जाएगा। मौसम का ताजा अनुमान बताता है कि अगले दो दिन देश के कई शहर तेज बारिश से तरबतर होने वाले हैं। इस बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिलेगी। फसलों के लिए भी यह पानी फायदेमंद साबित होगा। आज जारी हुए अनुमान के अनुसार अगले 12 से 18 घंटों के भीतर 8 राज्‍यों के 151 शहरों में तेज हवा, धूल भरी आंधी, कहीं हल्‍की तो कहीं भारी बारिश होने की संभावना है। उत्‍तर प्रदेश के अंबेडकरनगर, अमेठी, आजमगढ़, बहराइच, बलिया, बलरामपुर, बांदा, बाराबांकी, बस्ती, कंदौली, चित्रकूट, फैजाबाद, फतेहपुर, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हरदोई, जालौन, जौनपुर, कानपुर, कौशाम्बी, खीरी, लखनऊ, महोबा, मऊ, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, रायबरेली, सीतापुर, सुल्तानपुर, उन्नाव, वाराणसी आदि शहरों में धूल भरी आंधी के साथ तेज बारिश होने की आशंका है।

 

Rajnath calls killing of Indian soldiers in Galwan deeply disturbing and painful

Petrol price hiked by 55 paise/litre, diesel by 60 paise; 11th straight day of increase

Pakistan violates ceasefire along LoC in J-K's Naugam sector

More ICUs may be needed in coming days: Kejriwal

COVID-19 testing increased after HM's intervention; testing rate fixed at Rs 2,400: MHA

Chinese official media highlights PLA casualties at Galwan clash without mentioning numbers

Scrap pending CBSE board exams, mark students on previous internal assessment: Sisodia to HRD Min

Surveillance post set up by Chinese on Indian side of LAC triggered clash

Galwan violence: Army, Navy, Air Force raise alert level

Galwan Valley incident will have serious impact on bilateral ties: India to China

Why insult Indian Army by not naming China: Rahul to Rajnath

Ladakh face-off:PM convenes all-party meeting on Friday

AAP MLA Atishi tests positive for COVID-19: party colleagues

COVID-19: SC says Centre should direct states to pay salaries to doctors

503 isolation coaches in Delhi, 960 overall; Rlys ramp up COVID-19 treatment infra