ALL International NATIONAL State ADMINISTRATION Photo Gallery Economy Education/Science & Technology Environment & Agriculture Entertainment Sports
दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर एक बार फिर सील
May 26, 2020 • desk • NATIONAL

सोमवार से करीब दो महीने के बाद फिर घरेलू विमान सेवा शुरू हुई। लॉकडाउन  की वजह से 24 मार्च  विमान का परिचालन बंद था। खास बात यह है कि उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह ने ट्वीट के जरिए यह बताया कि विमान सेवा के परिचालन के पहले दिन कितने विमानों में टेक ऑफ और लैंडिंग की। वो बताते हैं कि कुल 532 फ्लाइट उड़ीं, जिनमें 39,231 यात्रियों ने सफर किया। देश में कोरोना का कहर लगातार जारी लेकिन इस बीच कई तरह की गतिविधियां दोबारा शुरु कर दी गई हैं। विमान सेवा भी शुरु हो चुकी है और पहले दिन हजारों यात्रियों ने घरेलू विमान सेवा की मदद से यात्रा की। देश में इन दिनों भीषण गर्मी का प्रकोप देखने को मिल रहा है। पूरा राजस्थान इस समय भीषण गर्मी से जूझ रहा है राजस्थान के चुरू में तो तापमान 47 डिग्री को पार कर गया है।

कोरोना के अबतक 145380 मरीज

30 मई को बीजेपी पहली वर्षगांठ मनाएगी। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोगों से पार्टी अलग अंदाज में रूबरू होगी।


आंध्र प्रदेश की जगनमोहन रेड्डी सरकार ने उस फैसले को पलट दिया है जिसके तहत टीटीडी को भगवान वेंकटेश्वर को दान में मिली जमीन को बेचने का अधिकार दिया गया था।

भारतीय सेना ने सोमवार को स्पष्ट किया कि उसकी अलग हिमाचल रेजिमेंट बनाने की कोई योजना नहीं है। आर्मी ने ऐसी खबरों को बेबुनियाद करार दिया है।

मधुमालती – Rangoon Creeper 
मधुमालती मुख्यतः एशियाई देशों में पाए जाने वाली फूलों की लता है. लाल, गुलाबी, सफ़ेद रंग के गुच्छों में खिलने वाले इसके फूल देखने में तो सुन्दर लगते ही हैं, बढ़िया महक से घर-आंगन महकाते भी रहते हैं. यह लता आसानी से लग जाती है और इसे खास देखभाल की जरुरत भी नहीं होती. मधुमालती का बोटैनिकल नाम Combretum Indicum है. अंग्रेजी में इसे रंगून क्रीपर (Rangoon creeper) या चायनीज हनीसकल (Chinese honeysuckle) भी कहते हैं. बंगाली में इसे मधुमंजरी, तेलुगु में राधामनोहरम, आसामी में मालती कहा जाता है. लगभग पूरे साल इस पर फूल लगते रहते हैं. यह बालकनी, गेटपोस्ट, बाड़, छत, खम्बे, दीवार को कवर करने के लिए बेहतरीन लता है.इसकी लता 2.5 से 8 मीटर ऊंचाई तक फैलती देखी गयी है. इसके जड़, बीज, पत्तियों और फूल का कई रोगों के उपचार में उपयोग होता है. इसके फूल की एक रोचक बात जानिए. ये फूल रंग बदलते हैं. पहले दिन सूर्योदय जब इसके फूल खिलते हैं तो ये सफ़ेद रंग के होते हैं. दूसरे दिन वही फूल गुलाबी रंग में बदल जाते हैं और तीसरे दिन गाढ़े लाल रंग में.

मधुमालती के पेड़ के लगभग हर भाग का आयुर्वेदिक उपचार में प्रयोग होता है. सर्दी-जुकाम और कफ की दिक्कत – 1 ग्राम तुलसी के पत्ते, 2-3 लौंग, 1 ग्राम मधुमालती के फूल, पत्ते का काढ़ा बनायें,  ये काढ़ा दिन में 2-3 बार पियें, लाभ होगा. डायबिटीज की समस्या –  मधुमालती के 5-6 पत्तों या फूल का रस निकालकर पियें. करीब 4 ml रस दोनों टाइम पियें. ल्यूकोरिया या श्वेत प्रदर – इसके इलाज के लिए मधुमालती की पत्ती और फूल का रस पियें. इसकी पत्तियों को पानी में उबाल कर पीने से बुखार से उठे दर्द में आराम मिलता है. पेट अगर भरा-भरा और फूला हुआ लगे तो इसकी पत्ती उबालकर वो पानी पीने से राहत मिलती है.  इसके फलों का काढ़ा दांतदर्द ठीक करता है. इसकी पत्तियों और फल से किडनी की सूजन और जलन का उपचार किया जाता है. इसकी जड़ो का काढ़ा पेट के कीड़े निकालने और डायरिया के इलाज में फायदा करता है. इस काढ़े से गठिया रोग में भी आराम मिलता

दुनिया को तबाही के समंदर में ढकेलने वाले चीन को अब डर लगने लगा है। वजह यह है कि चीन का कहना है कि भारत में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए वो अपने नागरिकों को वापस बुलाएगा।

पाकिस्तानी मूल के एक शख्स ने इंग्लैड के डर्बी स्थित गुरुद्वारे में तोड़फोड़ की है। आरोपी को पुलिस ने जांच शुरु करने के बाद गिरफ्तार भी कर लिया है।

UP पुलिस ने ली रिमांड तो कामरान ने क़बूला जुर्म, एक करोड़ रूपये के लिए योगी को दी थी धमकी

गाजियाबाद में कोविड-19 के बढ़ते मामलों पर जिला प्रशासन गंभीर हो गया है। गाजियाबाद जिला प्रशासन ने बड़ा कदम उठाते हुए सोमवार को दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर को एक बार फिर सील कर दिया। बॉर्डर पर स्थित लॉकडाउन-2 जैसी होगी।

प्रवासी श्रमिकों के लिए यूपी सरकार ने बड़ा फैसला किया है। अब अगर कोई दूसरा राज्य को  यूपी के स्किल्ड कामगार की जरूरत होगी तो यूपी सरकार से इजाजत लेनी होगी। कामगार/ श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) कल्याण आयोग अब युद्धस्तर पर तैयारी डेटाबेस बनाने में जुटा हुआ है।

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच  शुरू हुआ तनाव अब धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है। चीन ने  लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) के पास अपने पांच हजार से अधिक सैनिक तैनात किए हुए हैं जिसके जवाब में भारत ने भी अपने सैनिकों की संख्या में इजाफा कर दिया है।

बेशक कोरोना वायरस महामारी की वजह से पूरी दुनिया में खेल गतिविधियां ठप्प हो गई थीं लेकिन अब धीरे-धीरे ये खेलों की वापसी हो रही है। क्रिकेट जगत में भी तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। वेस्टइंडीज में विंसी टी10 प्रीमियर लीग शुरू हो ही चुकी है।

झांसी जिले के बाहरी इलाके में शनिवार शाम को टिड्डियों के झुंड के अचानक मूवमेंट ने जिला प्रशासन को अलर्ट पर ला दिया है। झांसी जिला प्रशासन ने टिड्डियों के झुंड द्वारा अचानक मूवमेंट करने के बाद फायर ब्रिगेड को रसायनों के साथ स्टैंड पर रहने के लिए निर्देशित किया गया है। झांसी पहुंचा 3 किलोमीटर लंबा टिड्डियों का झुंड, जिला प्रशासन अलर्ट पर

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे सरकार में मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। इससे पहले आवास मंत्री जितेंद्र अव्हाण कोरोनो वायरस पॉजिटिव पाए गए थे।

25 मई, सोमवार से नौतपा शुरू हो चुका है। कई राज्‍यों में बारिश की भी संभावना बन रही है। कुछ राज्‍यों में तो 26 से 28 मई तक भारी बारिश का अनुमान है। ऐसा इसलिए होगा क्‍योंकि 1 जून के बाद मानसून की गतिविधियां बढ़ जाएंगी। लिहाजा, प्री-मानूसन की बारिश के तौर पर अभी मूसलाधार बारिश देखी जा सकती है।  स्‍कायमेट वेदर के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान बिहार के पूर्वी हिस्सों में एक-दो जगहों पर हल्की बारिश होने का अनुमान है। उत्तर पश्चिम भारत और मध्य भारत के लगभग सभी भागों में मौसम शुष्क और बेहद गर्म बना रहेगा। अगले 24 घंटों के दौरान आंतरिक तमिलनाडु और साथ ही रायलसीमा के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हो सकती है। अगले 24 घंटों के दौरान पूर्वोत्तर भारत में मध्यम से भारी बारिश जारी रहने की संभावना है।  अगले 24 घंटों के दौरान राजस्थान, दिल्ली-एनसीआर, गुजरात के कुछ हिस्सों, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के कई हिस्सों में लू का प्रकोप जारी रहने की आशंका है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) आईएमडी के अनुसार 24 से 28 मई तक असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है क्योंकि बंगाल की खाड़ी से लेकर पूर्वोत्तर राज्यों में निचले ट्रोपोस्फेरिक स्तरों पर तेज हवाएं चलेंगी, जो बारिश करेंगी। 26 और 27 मई को दक्षिण-प्रायद्वीपीय भारत के कुछ हिस्सों में भारी वर्षा होने की संभावना है। राजेंद्र कुमार जेनामनी का कहना है कि 29 मई से गरज के साथ बारिश होने लगेगी। इसके चलते भारत के उत्तरी भागों में हवाओं का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक नीचे जाने की उम्मीद है।


Pending class 10,12 board exams to be held at 15,000 centres across country

Ready to deal with situation if there is spike in cases of novel coronavirus: Delhi CM

SC allows AI to fly for ten days with middle seats filled in scheduled aircraft

Narayan Rane demands imposition of President's rule in Maha

FIR against Alka Lamba over Unnao rape case tweet

Armies of India, China appear heading towards biggest face-off after Doklam

Trump event to blame for over 800 COVID-19 deaths in Guj: Cong

Lockdown 4.0: Manoj Tiwari goes to Haryana for playing cricket, AAP blasts him

Heat wave scorches Delhi; temp soars to 46°C at Palam

IAF to operationalise second Tejas squadron in Sulur in Tamil Nadu on Wednesday

With 29 fresh cases, Haryana's coronavirus count increases to 1,213
Study reconfirms coronavirus has higher transmission rate among close  contacts: ICMR

Ghaziabad-Delhi border sealed again, essential services personnel allowed

Ready to deal with rise in coronavirus cases: Uttarakhand CM Rawat

Coronavirus curfew extended till June 30 in Himachal's Hamirpur, Solan