ALL International NATIONAL State ADMINISTRATION Photo Gallery Economy Education/Science & Technology Environment & Agriculture Entertainment Sports
धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए तेलंगाना के 6 लोगों की मौत
March 31, 2020 • लखनऊ ब्यूरो

कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए लगे 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का आज सातवां दिन है। 

देश में कोरोना वायरस का संकट बढ़ता ही जा रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में आयोजित इस धार्मिक आयोजन ने इस परेशानी को और बढ़ा दिया है।


कोरोना वायरस संक्रमण के कारण देश-दुनिया में आर्थिक हालात में अस्थिरता उत्‍पन्‍न हो गई है और इसका सीधा असर सरकारी खजाने पर पड़ रहा है। 

​विश्वभर में कोरोना अभी तक 32 हजार से अधिक जाने ले चुका हैं और दुनिया की सुपरपावर कहे जाने वाले देश भी इस जानलेवा वायरस के संक्रमण से बच नहीं सके हैं। भारत सरकार ने इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए पहले तो एक दिन जनता कर्फ्यू का आह्वान किया और उसके बाद पीएम मोदी ने 21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा कर दी। इस अवधि के दौरान सरकार कई महत्वपूर्ण फैसले भी ले रही है ताकि आम जनता को कोई दिक्कत ना हो सके। सरकार के इस फैसले की पड़ोसी मुल्क की मीडिया में भी खूब चर्चा हो रही है। 


हैदराबाद: देश में कोरोना वायरस बढ़ते संकट के बीच एक ऐसी लापरवाही सामने आ रही है जो सरकार के लॉकडाउन के प्रयासों पर पलीता लगाने का काम कर रही है। दरअसल दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित एक धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए तेलंगाना के 6 लोगों की मौत हो गई है और ये सभी कोरोना संक्रमण पॉजिटिव पाए गए हैं। खुद तेलंगाना सरकार ने इस बात की पुष्टि कर दी है। तेलंगाना के 6 लोगों की मौत की पुष्टि राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय ने भी कर दी है। इन 6 लोगों में दो की मौत गांधी अस्पताल में जबकि एक-एक मौत अपोलो अस्पताल, ग्लोबल अस्पताल, निजामाबाद और गद्वाल में हुई है। मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक ये सभी लोग 13-15 जनवरी को दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए थे जहां से ये कोरोना के संक्रमण में आए। तेलंगाना में जिला कलेक्टरों के नेतृत्व में विशेष दल ऐसे लोगों की पहचान कर रहे हैं जो लोग इन मरीजों को अस्पताल में लाए थे और उन्हें भी इसका खतरा हो सकता है। तेलंगाना स्वास्थ्य विभाग ने मरकज में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में भाग लेने वाले लोगों से स्वेच्छा से अस्पताल में रिपोर्ट करने का आग्रह किया है। स्वास्थ्य विभाग ने  कहा है कि जिन्होंने भी दिल्ली में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में भाग लिया था उनका मुफ्त इलाज किया जाएगा। आपको बता दें कि 13-15 मार्च को दक्षिण दिल्ली के निजामुद्दीन पश्चिम इलाके में एक से 15 मार्च के बीच तबलीग-ए- जमात के इज्तिमे (मजहबी मकसद से एक खास जगह जमा होना) में दो हजार से ज्यादा लोगों ने शिरकत की थी। इनमें इंडोनेशिया और मलेशिया के लोग भी शामिल थे। कार्यक्रम में शामिल 200 से ज्यादा लोगों में कोरोना के संक्रमण की आशंका से हड़कंप मचा हुआ है। बड़ी संख्या में लोगों में बीमारी के लक्षण दिखने की रिपोर्टों के बाद दिल्ली पुलिस और सीआरपीएफ के अफसरों और मेडिकल टीमें रविवार रात इलाके में गई थी।
     दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निजामुद्दीन में तबलिग ए जमात बैठक के आयोजन के संबंध में एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं। इस महीने की शुरुआत में, दिल्ली सरकार ने धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक कार्यक्रमों के साथ-साथ 31 मार्च तक 50 से अधिक लोगों के विरोध प्रदर्शनों के लिए एकत्र होने पर भी रोक लगा दी लेकिन इसके बावजूद भी यह कार्यक्रम आयोजित हुआ।


महाराष्ट्र: CM राहत कोष में 1 करोड़ रुपए दान करेंगे चिदंबरम

कोरोना पर तेलंगाना सरकार का बड़ा निर्णय, सरकारी और रिटायर कर्मचारियों के वेतन और पेंशन में भारी कटौती

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि लॉकडाउन के कारण रास्ते में ही फंस गये लोगों को 31 मार्च को राज्य के भीतर एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए दी गयी छूट अब निरस्त कर दी गयी है.

आगरा में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 11 पहुंच गई है. यूके में लौटे छात्र का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है.

गौतमबुद्ध नगर में दो महिलाओं समेत पांच और लोग कोरोना वायरस से रविवार को संक्रमित पाए गए जिन्हें मिलाकर जिले में इससे संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 31 हो गई.

मध्य प्रदेश में सत्ता के बदलाव के बाद प्रशासनिक स्तर पर फेरबदल जारी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी को बनाया गया है.

कोरोना वायरस प्रकोप के मद्देनजर लागू किए गए लॉकडाउन (बंद) के नियमों के उल्लंघन को लेकर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में रविवार को एक कांग्रेस विधायक पर मामला दर्ज किया गया है. विधायक ने मुफ्त राशन वितरण की घोषणा की थी, जिससे उनके घर के बाहर भीड़ जमा हो गई.

 

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम से सोशल मीडिया में भ्रामक पोस्ट डालने पर पुलिस ने रविवार को 30 वर्षीय एक युवक को गिरफ्तार किया. इस युवक ने मुख्यमंत्री के नाम से सोशल मीडिया में लिखा था कि सभी घरों में एक अप्रैल से ताला लगा दिया जायेगा और जो बाहर निकलेगा उसे गोली मार दी जायेगी.

मध्यप्रदेश में आठ और मरीजों में कोरोना वायरस संक्रमण की सोमवार को पुष्टि की गयी। इसके साथ ही, सूबे में इस संक्रमण की जद में आये लोगों की संख्या बढ़कर 47 हो गयी है. इनमें से दो लोगों की मौत की पहले ही पुष्टि की जा चुकी है.


Delhi LG orders strict action against DMs, DCPs for violation of lockdown rules

Suspended JK police officer Davinder Singh sent to further custody till Apr 3

Cornavirus cases in TN now stands at 67: CM Palaniswami

Nadda asks BJP workers to donate Rs 100 to PM-CARES fund, inspire 10 others

Coronavirus lockdown: Patrolling intensified on Delhi borders, says Kejriwal

Passengers who flew in Vistara's Mumbai-Goa flight on Mar 22 on notice

One more tests positive for coronavirus in Punjab, total count 39

6 who attended Nizamuddin congregation die of COVID-19

COVID-19 cases in Delhi rise to 97

UP CM transferred Noida DM for lapse in Covid-19 management

11 more test positive in J&K, tally rises to 49

32 fresh cases reported from Kerala

'All Delhi students up to Class 8 to be promoted to next standard'

Police cordon off area in Nizamuddin as people show COVID-19 symptoms  after religious gathering

Tokyo Olympics to be held between July 23 & Aug 8, 2021