ALL International NATIONAL State ADMINISTRATION Photo Gallery Economy Education/Science & Technology Environment & Agriculture Entertainment Sports
 कस्तूरबा गांधी विद्यालय जमुनहा का डी0एम0 ने किया औचक निरीक्षण
July 25, 2019 •      रिपोर्ट दिलीप कुमार मिश्रा श्रावस्ती


अध्ययनरत छात्राओं से डी0एम0 ने जाना उनका कुशल क्षेम

श्रावस्ती 25 जुलाई, 2019/सू0वि0/विकासखण्ड जमुनहा के अन्तर्गत हरदत्तनगर गिरंट में संचालित कस्तूरबा गांधी विद्यालय का जिलाधिकारी ओ0पी0 आर्य ने औचक निरीक्षण कर यंहा पर अध्ययनरत छात्राओं से उनका कुशल क्षेम जाना तथा उनको विद्यालय द्वारा दी जाने वाली पाठ्य पुस्तक, खाद्य सामग्री एवं अन्य सुविधाओं के बारे में जानकारी ली तथा छात्राओं से पूरे मन लगाकर पढ़ाई करने का उन्होने अपेक्षा भी की। निरीक्षण के दौरान विद्यालय में की गई आपूर्ति खाद्य पदार्थ, चावल और आटा में कीडा पाये जाने तथा वार्डेन द्वारा मांगे गये खाद्य पादार्थों/वस्तुओं की मांग के अनुरूप कम उपलब्ध कराये जाने पर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी जताते हुये यंहा पर तैनात लेखाकार को चेतावनी देते हुये कार्य में सुधार लाने का निर्देश दिया है। उन्होने कहा कि लेखाकार की जब खाद्य पदार्थों के मंगवाने और उसकी गुणवत्ता देखने की जिम्मेदारी है तो क्यों अपने दायित्वों का सही ढंग से निर्वहन नही किया गया जब आटा और चावल में कीड़े युक्त है तो इसकी सूचना सम्बन्धित अधिकारियों को क्यों नही दी गई इस सब लापरवाही के कारण जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से पूरा ब्यौरा तलब किया है। उन्होने कहा कि सरकार कस्तूरबा में अध्ययनरत बालिकाओं को बेहतर शिक्षा देकर उनके भविष्य को संवारने के साथ ही उनकी स्वास्थ्य की देखभाल भी सरकार द्वारा किये जाने का निर्देश है। इसलिये उन्हे सरकार द्वारा प्रदत्त सभी सुविधाएं समय से मुहैया कराई जाये यदि इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलिता पाई गई तो निश्चित ही सम्बन्धित अधिकारी/कर्मचारी दण्डित होगें।
          यंहा पर तैनात वार्डेन ने छात्राओं को बैठने हेतु मेज और बेंच विद्यालय के चारो कोने में सौर उर्जा लाइट तथा रसोई के सामने बाहर इण्टर लाकिंग कराने के साथ ही विद्यालय में गणित अध्यापक की व्यवस्था कराने का अनुरोध किया। इस प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को कार्यवायी करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही उन्होने बच्चियों का समय-समय पर स्वास्थ्य परीक्षण करवाते रहने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने वार्डेंन को यह भी निर्देश दिया है कि यदि विद्यालय में अध्ययनरत किसी विशेष परिस्थिति में उसे अपने घर जाना है तो उन्हे पूरे लिखा पढ़ी के साथ उनके माता-पिता के साथ ही भेजा जाये।


       


 नौनिहालों के भविष्य सवांरने में लापरवाही मिली तो सम्बन्धित शिक्षकों पर होगी कार्यवायी-जिलाधिकारी
          श्रावस्ती 25 जुलाई, 2019/सू0वि0/जिलाधिकारी ओ0पी0 आर्य ने विकासखण्ड जमुनहा के अन्तर्गत प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालय नासिरगंज का औचक निरीक्षण किया तो वे हतप्रभ रह गये क्योकिं यंहा पर एन0पी0आर0सी0 दिनेश कुमार मिश्रा द्वारा वितरित की जाने वाली पाठ्य पुस्तकों का कोई ब्यौरा ही उपलब्ध पाया गया न ही वितग वर्ष में इस स्कूल द्वारा कितने बच्चों को पाठ्य पुस्तक, यूनीफार्म दिया गया है इसका भी कंही कोई पंजिका अपडेट न होने के कारण प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य को जमकर फटकार लगाई और खण्ड शिक्षा अधिकारी के द्वारा स्कूलों की ढंग से मानीटरिंग न करने और व्यवस्थापूर्ण ढंग से विद्यालयों का संचालन एवं रखरखाव न पाये जाने पर उन्हे प्रतिकूल प्रविष्टि देने का निर्देश दिया है। 
       जिलाधिकारी ने पुस्तक प्राप्ति व वितरण के बारे में जानकारी ली, पाठ्य पुस्तकों की प्राप्ति/वितरण पंजिका दुरूस्त नही मिली, देखा गया कि कक्षा 1 में 42 बच्चे पंजीकृत है जिसके सापेक्ष केवल 30 बच्चों को ही पुस्तक वितरण किया गया है इसी प्रकार कक्षा 2 में 49 के सापेक्ष 28 को, कक्षा 03 में 47 के सापेक्ष 23 को, कक्षा 04 में 34 के सापेक्ष 08 को, कक्षा 05 में 32 के सापेक्ष 15 को, कक्षा 06 में 63 के सापेक्ष 31 को, कक्षा 07 में 52 के सापेक्ष 14 को तथा कक्षा 08 में 31 के सापेक्ष केवल 14 बच्चों को ही पाठ्य पुस्तक वितरण किया गया है जिस पर जिलाधिकारी ने एन0पी0आर0सी0 से गहरी नाराजगी जताई तथा शत-प्रतिशत पुस्तक वितरण का निर्देश दिया।       
          जिलाधिकारी ने बन रहे मध्यान्ह भोजन की गुणवत्ता का जायजा लिया तथा निर्देश दिया कि बच्चों को मीनू के अनुसार ही मध्यान्ह भोजन दिया जाये इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। पढ़ाई की गुणवत्ता देखने के उद्देश्य से जिलाधिकारी ने बच्चों से पुस्तक व श्याम पट में लिखा हुआ अग्रेंजी वर्णमाला पढ़वाया जिस पर कुछ बच्चों द्वारा पढ़ कर सुनाया गया तथा कुछ बच्चों द्वारा नही सुनाया गया, जिलाधिकारी ने वंहा पर उपस्थित सभी अध्यापकों को 02 माह में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने का निर्देश दिया यदि फिर भी सुधार नही हुआ तो कार्यवायी की जायेगी।
          निरीक्षण के दौरान अलमारी में 30 स्वेटर रखे मिले जिस पर जिलाधिकारी ने रखी स्वेटर के बारे में जानकारी चाही, एन0पी0आर0सी0 द्वारा कोई जवाब नही दिया गया जिस पर जिलाधिकारी ने खण्ड शिक्षा अधिकारी से स्पष्टीकरण तलब किया तथा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को गत वर्ष ड्रेस वितरण/पाठ्य पुस्तक का ब्यौरा तलब किया। विद्यालय में मुख्य गेट के पास श्यामपट में 17 जुलाई से दैनिक विवरण अपडेट न करने के कारण प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक को जिलाधिकारी ने जमकर फटकार लगाई तथा प्रतिदिन श्यामपट में दैनिक विवरण अकिंत करते रहने का निर्देश दिया। 
        तदोपरान्त जिलाधिकारी ने स्कूल में प्रयोग होने वाले शौंचालय, पेयजल का भी जायजा लिया, शौंचालय में पानी की अनुउपलब्धता के बारे में जिलाधिकारी ने जब प्रधानाध्यापक से जानकारी चाही तो उन्होने बताया कि विद्यालय में लगा पानी मोटर खराब है इस प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि बच्चों के पेयजल और शौंचालय में पानी की अनिवार्यता को देखते हुए तत्काल मोटर बनवाकर पानी का संचालन शुरू करावे ताकि बच्चों मूलभूत सुविधाओं में कोई दिक्कत न होने पावे।
        निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी अवनीश राय, अपर जिलाधिकारी योगानन्द पाण्डेय उपस्थित रहे।


                                                                                                          रिपोर्ट दिलीप कुमार मिश्रा श्रावस्ती